500 और 2000 रुपये के लिखे नोट भी लेने से इनकार नहीं कर सकता बैंक

अंतरराष्ट्रीय व्यापार मेले में आरबीआई ने स्पष्ट किया कि 500 और 2000 रुपये के लिखे हुए नोट भी बैंक लेने से इंकार नहीं कर सकता हैं. मगर साथ ही यह भी आदेश सुनाया हैं कि बैंक नोट बदल भी नहीं सकता. मतलब आप लिखे हुए नोट को अपने कहते में भी जमा कर सकते हैं। Indian Currencyहर किसी की इच्छा होती है कि उसके पास पैसा हो और पूरी जिंदगी इंसान पैसे के पीछे ही भागता रहता हैं साथ ही हर रोज़ हम जीवन में नोटो का उपयोग करते है। हॉटेल, मार्केट, दूधवाला, चायवाला, पेपरवाला आदि।

लेकिन नोटो पर कुछ भी लिखा हो या नोटो का रंग चला गया हो तो इस प्रकार के नोट मार्केट में नहीं लेते और न ही बैंक में नोट लेते है। 2000 की नोटो की बात ही कुछ आलग है, इसके कोई जल्दी छूटटें नही देता। अगर 500 और 2000 रुपये के नोट पर कुछ भी लिखा हो तो अब बैंक भी लेने से मना कर देता हैं मगर अब बैंक मना नही करेगी लेकिन ये नोट बदली नही कर सकते। लेकिन ये पैसे आप आपके व्यक्तिगत खाते मैं आप जमा कर सकते है।

अंतरराष्ट्रीय व्यापार मेले में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया आर्थिक साक्षरता के तहत प्रगति मैदान हॉल 18 में बताया कि अगर कोई आपने बैंक से नोटो को बदलना चाहता है तो वह नोटो को बदली नही कर सकता लेकिन आपने व्यक्तिगत बैंक में जमा कर सकता है। अभी तक बैंक से कोई ऐसा निर्देश नही आया कि नोटो को बदली करके दे।

जिनके पास स्मार्टफोन नहीं है, मोबाइल बैंकिंग सुविधा भी इस्तेमाल की जाएगी। फोन पर *99 # डायल करके, बिना इंटरनेट के भी दो खातों के बीच पैसे का लें दें कर सकते हैं. इसके लिए, ग्राहक को इस नंबर को डायल करके पंजीकरण करना होगा।

RBI ने यह भी स्पष्ट किया कि 200, 500, 2000 के नोटो की पहचान के लिये 17 फीचर के जरिये हम जाली नोट की पहचान कर सकते है। 50 रूपये के नोट पर 14 फीचर के तहत हम जाली नोटो की पहचान कर सकते है।

उन्होंने कहा कि लोग हमारे पास शिकायतें ले कर आ रहे हैं कि दुकानदार 10 रुपये के सिक्के नहीं ले रहे हैं। हमने ऐसी शिकायतें लेकर आ रहे लोगों को स्पष्ट कर दिया है कि 10 रुपये के सभी सिक्के मान्य है। हमने इस संबंध में अधिसूचना को मेले में लगाया हुआ है लेकिन हम लोग मेले के जरिये डिजिटल लेन-देन के लिए भी लोगों को प्रोत्साहित कर रहे हैं। भारत सरकार ने ज्यादा से ज्यादा लेनदेन डिजिटल हो इसीलिये भीम, पेटीएम, फ्री रिचार्ज, तेज इत्यादि ऐप भी हैं।

[स्रोत- बालू राऊत]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here