धूम-धाम मनाया गया शिवहर जिले का 23वां स्थापना दिवस

शिवहर: 6 अक्टूबर को शिवहर जिले का 23वां स्थापना दिवस बड़े धूम-धाम से मनाया गया । इस अवसर पर नगर स्थित गांधी भवन में जिला प्रशासन द्वारा भव्य समारोह का आयोजन किया गया जिसमे भारी संख्या मेें जिले के जनप्रतिनिधि, समाजसेवी सहित आमजन शरीक हुए । 23 anniversary of sheohar districtस्थापना दिवस के शुभ अवसर पर आयोजित कार्यक्रम का उद्धाटन मुख्य अतिथि शिवहर जिले के जनक व पूर्व केन्द्रीय मंत्री पंडित रघुनाथ झा, जिलाधिकारी राजकुमार, आरक्षी अधीक्षक प्रकाशनाथ मिश्र, पूर्व सांसद श्रीमती लवली आनंद,बेलसंड विधायक प्रतिनिधि राणा रंधीर सिंह चौहान, पूर्व विधायक अजीत कुमार झा, पूर्व विधायक ठाकुर रत्नाकर राणा आदि ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर किया।

तत्पश्चात पंडित रघुनाथ झा ने केक काटकर मंच पर उपस्थित लोगाें का मुंह मीठा कराया इस दौरान जिले के कलाकारों ने अपनी-अपनी कला का प्रदर्शन कर उपस्थित जनसमूह का दिल जीत लिया और ऐतिहासिक क्षण को और यादगार बना दिया । मुख्य रूप से स्टेप-अप डांस अकेडमी के द्वारा प्रस्तुत किये गये समूह-नृत्य ने लोगों को झूमने पर मजबूर कर दिया।

[ये भी पढ़ें: अपने दिन बहुरने के इंतजार में बाट जोहता बदहाल राजकीय प्राथमिक विधालय शिवहर]

कार्यक्रम में बाढ़ पीड़ितों की मदद तथा दशहरा, मुहर्रम के दौरान जिले में आपसी भाईचारा एवं सौहार्द की भावना को बहाल करने में अहम योगदान देने वाले जनप्रतिनिधियों, समाजसेवियों एवं पत्रकारों को सम्मानित किया गया । स्थापना दिवस को यादगार बनाने के लिए जिला प्रशासन द्वारा कोई कसर नहीं छोड़ी गई । समाहरणालय कार्यालय सहित पूरा समाहरणालय परिसर आकर्षक रोशनी में नहाया हुआ है और जिले में चहुँओर चहल-पहल एवं आनंद का वातावरण कायम हैं ।sheohar disttकार्यक्रम के दौरान अपने संबोधन में पूर्व केन्द्रीय मंत्री सह मुख्य अतिथि पंडित रघुनाथ झा ने कहा कि शिवहर को हरियाणा बनाने का उनका सपना फलीभूत होता नजर आ रहा है । वहीं जिलाधिकारी राजकुमार एवं आरक्षी अधीक्षक प्रकाशनाथ मिश्र ने जिलावासी को बधाई देते हुए कहा कि शिवहर जिला नित्य नई-नई ऊँचाइयों को छूए एवं लगातार विकास के पथ पर अग्रसर रहे। साथ ही उन्होंने जिलावासियों को यह भरोसा दिलाया कि शिवहर जिला के विकास के लिए सदैव प्रयासरत रहेंगे ।

शिवहर जिले का संक्षिप्त परिचय
शिवहर जिला का गठन 6 अक्टूबर 1994 को हुआ । यह बिहार राज्य का एक महत्वपूर्ण प्रशासनिक जिला है जिसका मुख्यालय शिवहर में स्थित हैं साथ ही शिवहर जिला बिहार राज्य के तिरहुत प्रमंडल का एक हिस्सा है। प्रसिद्ध हिंदी उपन्यासकार, डॉ० भगवती शरण मिश्रा शिवहर के प्रथम जिलाधिकारी थे। इस जिले का क्षेत्रफल 443 वर्ग कि.मी. और इसकी आबादी 6,56,916 है।

[ये भी पढ़ें: शिवहर जिले के आदर्श गुरु श्री नागेंद्र साह की दास्तान]

कृषि यहाँ के लोगों की जीविका का मुख्य साधन है। यह बिहार के बाढ़ प्रभावित जिले में से एक है।यहाँ प्रतिवर्ष बाढ़ से लाखों की क्षति होती है। बागमती और बूढ़ी गंडक नदियाँ बाढ़ का मुख्य कारण बनती है। देकुलीधाम एकमात्र लोकप्रिय पवित्र स्थान है। प्रत्येक रविवार के दिन भक्तों की काफी भीड़ उमड़ती हैं । शिवहर जिला के उत्तर और पूर्व में सीतामढ़ी जिला से,पश्चिम में पूर्वी चंपारण से और दक्षिण मेें मुजफ्फरपुर जिला से घिरा हुआ हैं ।

शिवहर जिला के संबंध में कुछ रोचक जानकारियाँ
शिवहर जिला क्षेत्रफल की दृष्टि से बिहार का सबसे छोटा जिला है । जबकि जनसंख्या घनत्व की दृष्टि से बिहार का सर्वाधिक जनसंख्या घनत्व वाला जिला है। वहीं शिवहर जिला प्रतिव्यक्ति आय की दृष्टि से बिहार का सबसे कम प्रतिव्यक्ति आय वाला जिला है तथा यह शेखपुरा जिला के बाद बिहार का दूसरा सबसे कम जनसंख्या वाला जिला है।

पिछले कुछ वर्षों में जिले के विकास दर एवं शिक्षा दर में आशातीत बढोतरी हुई हैं। लेकिन कुल मिलाकर 5 प्रखंडों, 53 पंचायतों, 207 गावों वाला 23 वर्षीय यह जिला आज भी मूलभूत सुविधाओं से वंचित हैं ।

[स्रोत- संजय कुमार]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here