वजराई के वॉटरफॉल पर्यटन को विकसित करने के लिये जिला नियोजन समिति के बैठक

भारत का सबसे बडा वजराई झरना महाराष्ट्र के सातारा जिले के भांबबाली गांव में है। भाम्बावली गाव सातारा शहर से 27 किमी की दूरी पर स्थित है । वजराई में 840 फीट की ऊँचाई से झरने का पानी नीचे जमींन पर गिरता है । पूरे हरे जंगल में एक सुंदर गांव है। मुख्य आकर्षण झरना, उसके घने झाड़ी, शुद्ध और स्वच्छ हवा मानसून की प्राकृतिक सुंदरता का अन्वेषण करने के लिए लोग इस जगह को अनूठे तरीके से देख सकते हैं।

Vajrai Waterfall tourism

उर्ममोडी नदी इस झरने से निकलती है। इस नदी पर उरमोडी बांध भी है। पूरे क्षेत्र बहुत सुंदर है और यह कास पठार के करीब है यहां सुंदर क्षेत्र बरसात के मौसम का मुख्य आकर्षण है यह हिस्सा ट्रँकर के लिए एक स्वर्ग के रूप में माना जाता है । लेकिन मानसून में यह खतरनाक हो सकता है।

वाजराई फॉल्स सपने में देखने जैसा है। जो सपनों की दुनिया से सबसे लाजवाब है। लंबा रास्ता बंद, हरी बादल नीचे आते हैं, फव्वारा के अंदर देखना और छोटे झरने आँखें देख, तीव्र लालसा मानसून में पानी की कुछ धाराएं चट्टान पहाड़ी से नीचे आती हैं, जबकि कुछ झरने जमीन पर गिर जाती हैं। यहां आने वाले पानी को देखने के लिए पर्यटकों की भीड़ यहां लग जाती है ।

ये झरना देखने के लिये गाव के पास गाडी पार्क करके के चलके जाना पडता था । इस बात को मद्देनजर रख के यहां के गाववालों ने ‘व्ह्यू पॉइंट’ बनाने के लिये ग्रामवासियों ने ‘ना हरकत’ प्रमाणपत्र जिलाअधिकारि को दिया है । कास पठार गाव के पास भांबवली वजराई झरना है ।

यहां के पर्यटन को विकसित करने के लिये जिला नियोजन समिती के बैठक में 95 लाख रुपये मंजूर कर दिये है । इसके वजह से अब वजराई झरना सबकी दिल की धडकन बन गया है । वजराई झरना विकसित करने के लिये यहां के ग्रामवासी और फोरेस्ट डिपार्टमेंट की मदद से बनाया है ।

भांमवली पर्यटन के लिये जो राशी मंजूर की है । उसमें से पर्यटक को नजदीक से झरना देखनी की व्यवस्था की है । और टॉयलेट, बैठने के लिये बेंच, पेड के बाजू में कट्टे, सबकी निगराणी के लिये एक वॉच टॉवर बनाया जायेगा । पर्किग की व्यवस्था, खाणे पिणे के लिये कँटीन, बनायी जायेगी गाव से दो किलो मीटर का रस्ता पक्का बनाया जायेगा । ये सब काम पर्यटन विकास के लिये मिली मंजूर राशी से किये जायेंगे ।

भांमवली पर्यटन विकास को चालना मिलने से स्थानिक लोगों को रोजगार मिल जायेगा । नौकरी के लिये मुम्बई जान वाले हमारे आगे की पिढी नही जायेगी भांमवली पर्यटन विकास होगा तो गाव के लोगों रोजगार मिलेगा साथ ही साथ में महिला बचत गट के बनाये गये प्रॉडक्ट्स को बढ़ावा मिलेगा । यहां के आसपास बहोत बडे पर्यटन है ।

उसमें से अजिंक्यतारा किल्ला, सज्जनगढ, कास पठार, टोसेगर, उमरोडी बांध, नटराज मंदिर, प्रतापगढ, शिखर शिंगणापूर, चाळकेवाडी, पाली, चाफळ, कोयनानगर, वाई, पांचगनी, पुसेगाव, मांढरदेवी वाई इन सभी पर्यटन भी देखने लायक है । और आप यहां भी घूमने का आनंद ले शकते है । भांमवली पर्यटन विकास के लिये ग्रामवासियों ने प्रयास किये और आमदार शिवेंद्रराजे भोसले, माजी जिला परिषद सदस्य राजू भोसले, इनके अथक परिश्रम से भांमवली का विकास होगा । ये बात हमें विजय मोरे ने बतायी ।

[स्रोत- बाळू राऊत]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here