सपने

चलते चलते राहे-गुज़र में कभी-कभी
झिलमिलाते हुए, सपने कहीं मिल जाते हैं,
हाथ बढ़ा कर छूना चाहो तो फिर,
धुएँ का गुबार बनकर आसमां में घुल जाते हैं।sapne

पुरानी अटारी पर बंद किताबों के ढेर में
गुलाब की पंखुड़ियाँ सूख गईं हैं जैसे,
पूरे-अधूरे सपनों का संसार में वैसे
गुडमुडी सी लगा के सो जाते हैं।

[ये भी पढ़ें : खुश रहने का हक़ हम सबको है]

इंद्रधनुषी रंगों से सजे कुकुरमुत्ते से उगे,
बारिश की बूंदों से बनते-पिघलते,
पत्तों के किनारों पर रुकने को मचलते,
पल में धरा में मिल कर सो जाते हैं।

[ये भी पढ़ें : क्या जीवन के बाद भी कोई जीवन होता है]

मुट्ठी से फिसलती रेत को रोक लेते हैं,
अधमुँदी आँखों में हल्के हाथों से
‘लेखनी’ के सपनों को सँजो लेते हैं
बिखर न जाएँ गिर के रंग कहीं,
चलो इन्हें जिंदगी में सँजो लेते हैं।

_ लेखनी _

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here