ग्लोबल लिबेबिलिटी सर्वे: मेलवर्न दुनिया का सबसे शानदार शहर, भारत का कोई भी शहर इस सूची में नहीं

ऑस्ट्रेलिया का शहर मेलबर्न दुनिया में रहने लायक शानदार शहरों की सूची में प्रथम स्थान पर है जबकि पाकिस्तान का कराची और ढाका शहर दुनिया में रहने लायक शहर नहीं है। यह रिपोर्ट द इकोनॉमिस्ट इंटेलिजेंस यूनिट की ग्लोबल लिबेबिलिटी द्वारा किए गए सर्वे में सामने आई है। सूची में भारत का कोई भी शहर जगह नहीं बना पाया है। इस रिपोर्ट में दुनिया के 10 शानदार शहरों को शामिल किया गया है, जिसमें मेलबर्न (ऑस्ट्रेलिया) सबसे शानदार शहर दर्शाया गया है।Melbourne

इस रिपोर्ट में मेलबर्न के बाद ऑस्ट्रिया का शहर वियना दूसरे स्थान पर है, वियाना ऑस्ट्रिया की राजधानी है। वहींं तीसरे स्थान पर कनाडा का वैंकूवर शहर है। दुनिया के 140 शहरों में यह सर्वेक्षण किया गया यह सर्वेक्षण प्रत्येक वर्ष किया जाता है, इस वर्ष जारी की गई इस रिपोर्ट में टॉप 5 शहर पिछले साल की रिपोर्ट से परिवर्तित नहीं हुए हैं। 10 देशों की इस रिपोर्ट में मेलबर्न, वियना, वैंकूवर, कैलगिरी, एडिलेड है यह पांच शहर पिछले साल की रिपोर्ट में भी इसी स्थान पर काबिज थे।

सीरिया का दमिश्क शहर को माना गया सबसे ख़राब शहर

140 देशों के सर्वेक्षण में सबसे निम्न स्थान (140 वे) पर सीरिया का दमिश्क शहर है, जो कि रहने के हिसाब से सबसे खराब शहर माना गया है। वहींं 139 से स्थान पर लागोस, 138 से स्थान पर त्रिपोली, 137 वे स्थान पर ढाका, 136 से स्थान का पोर्ट मोरेस्वी और 134 वे स्थान पर पाकिस्तान का कराची शहर है।Global Liveability Reportपिछले 5 सालों की तुलना की जाए तो पिछले 1-2 वर्षों में वैश्विक अस्थिरता के आंकड़े बढ़े हैं तथा जीवन यापन करने वाले स्थानों की संख्या में गिरावट दर्ज की गई है। रिपोर्ट में खुलासा किया गया है कि यूरोप सहित दुनिया के कई हिस्सों में आतंकवादी गतिविधियां व उतार- चढ़ाव बढ़ा है। चारों तरफ अशांति व्याप्त है। प्रत्येक देश आतंकवादियों के साए से ग्रसित है।

[ये भी पढ़ें : बार्सिलोना के ISIS आतंकी हमले में अब तक 13 लोगो की मौत]

फ्रांस और ब्रिटेन में लगातार हमले हुए हैं, इसी वजह से यूरोप व आसपास के क्षेत्र इस रिपोर्ट में निम्न स्थान पर रहे हैं। नाइजीरिया, इराक, लीबिया, सीरिया आदि देश लगातार आतंकवादी संगठनों, सैन्य संघर्षों व आपसी टकराव की भावना से जूझ रहे हैं। अमेरिका में भी सरकार बदलने के बाद अशांति देखने को मिली है तथा ट्रंप की नीतियों से सभी लोग संतुष्ट नहीं है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here