रैगिंग मामले में IIT कानपुर ने निलंबित किए 22 छात्र

आईआईटी कानपुर ने रैगिंग आरोप के बाद 22 छात्रों को निलंबित कर दिया है. 22 छात्रों में से 16 छात्रों को 6 सेमेस्टर मतलब 3 साल के लिए तथा शेष 6 छात्रों को 2 सेमेस्टर मतलब 1 साल के लिए निलंबित कर दिया है. आरोप के बाद इन सभी छात्रों ने जांच कमेटी के सामने अपना पक्ष रखा था लेकिन प्रशासन के सामने इनकी दलीलें गलत साबित हुई और आईआईटी कानपुर ने रैगिंग करने वाले सभी छात्रों को बाहर का रास्ता दिखा दिया है.IIT Kanpurरैगिंग करने वाले छात्रों पर आरोप है कि उन्होंने नए प्रवेश छात्रों से अभद्रता की, उल्टे सीधे सवाल पूछे और उनसे गलत कार्य भी करवाए. रैगिंग को कॉलेजों में पहले से ही बैन किया जा चुका है मगर इतने पर भी सीनियर स्टूडेंट के समूह ने जूनियर स्टूडेंट को रैगिंग के नाम पर बहुत सताया, जिसकी शिकायत पीड़ितों ने प्रशासन से कर दी.

जानकारी मिलने पर सीनेट के सभी सदस्यों ने अपनी अपनी बातें रखी और छानबीन भी कराई आरोप सही सिद्ध होने पर सीनेट चेयरमैन ने सभी आरोपियों को निलंबित करने का निर्णय लिया. आरोपियों की कोई भी दलील उन्हें बचाने के काम नहीं आई सिनेट बैठक में अपने इस आदेश को बरकरार रखा.

[ये भी पढ़ें: अब लड़को को भी अनिवार्य विषय के रूप में पढ़ना होगा गृह विज्ञान]

निलंबित छात्र 1 साल तक दया अपील भी नहीं कर सकेंगे और जब इनका निलंबन समय पूरा होगा तब इन को नए सिरे से प्रवेश लेना होगा. आरोपी छात्रों को पहले ही छात्रावास से बाहर निकाला जा चुका है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here