महिला वर्ल्ड कप फाइनल: 30 साल पहले की यादें ताजा नहीं कर पाई भारतीय महिला टीम

रविवार का दिन भारतीय महिला क्रिकेट टीम के लिए और भारतीय क्रिकेट फैंस के लिए अच्छा नहीं रहा क्योंकि भारतीय महिला क्रिकेट टीम आईसीसी वुमन वर्ल्ड कप के फाइनल में जीती हुई बाजी हार गई मेजबान इंग्लैंड ने भारतीय टीम को अंतिम क्षणों में 9 रनों से हराया इंग्लैंड ने चौथी बार ICC वर्ल्ड कप पर कब्जा किया.महिला वर्ल्ड कप फाइनलहालांकि इंग्लैंड ने 228 रन बनाए भारत को चैंपियन बनने के लिए 229 रन बनाने थे जो कि एक बहुत बड़ा लक्ष्य नहीं लग रहा था भारत की शुरुआत बेहद खराब रही मंधाना जीरो रन बनाकर आउट हुई किंतु सलामी बल्लेबाज पूनम राउत और हरमनप्रीत कौर ने अच्छी बल्लेबाजी का नजारा दिखाया और टीम को तीन विकेट के नुकसान पर 191 रन पहुंचाया.

जिसमें हरमनप्रीत ने 51 रनों का योगदान दिया और पूनम राउत ने 86 रनों की बेहतरीन पारी खेली किंतु जिस समय भारत का स्कोर 191 रन था उस समय चैंपियन बनने के लिए 37 रनों की जरूरत थी, 45 गेंदें शेष बची थी अब लग रहा था भारत मैच को आसानी से जीत जाएगा किंतु पूनम राउत के आउट होते ही सभी महिला बल्लेबाज एक के बाद एक आउट होते चली गई नतीजा रहा भारत मैच 9 रन से हार गया अभी 8 गेंदें शेष बची हुई थी.

इंग्लैंड के कप्तान ने पहले टॉस जीतकर बल्लेबाजी का निर्णय लिया निर्धारित 50 ओवर में 7 विकेट के नुकसान पर 228 रन बनाए हालांकि उम्मीद से बेहद कम स्कोर बनाया, इसके पीछे की वजह रही झूलन गोस्वामी की बेहतरीन गेंदबाजी उन्होंने 10 ओवर में 23 रन देकर के तीन विकेट हासिल किए.

जीत के लिए मिले 229 रनों का लक्ष्य भारत भेदने में नाकाम रहा और 9 रनों से हार का सामना करना पड़ा इस तरह 12 साल बाद फाइनल में पहुंची भारतीय टीम एक बार फिर से चैंपियन बनने में नाकाम रही इसका पूरा श्रेय इंग्लैंड की अन्या श्रुब्सोले को जाता है जिन्होंने आखिरी पालो में 6 विकेट चटकाए.

30 साल पहले लॉर्ड्स के मैदान पर पुरुष क्रिकेट टीम ने इतिहास रचा था जब कप्तान कपिल देव ने वेस्टइंडीज को हराकर वर्ल्ड कप भारत को दिलाया था जी हां उस समय लॉर्ड्स का ही मैदान था और इस मैच में भी लॉर्ड्स का ही मैदान था किंतु फर्क इतना था उस समय वेस्टइंडीज की टीम सामने थी और इस मैच में मेजबान इंग्लैंड की टीम सामने थी.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here