जानिए क्यों – हिन्दी को हमारी जरुरत नहीं, हमें हिन्दी की जरुरत है?

आज 14 सितम्बर है, आज पुरे हिन्दुस्तान में हिन्दी दिवस मनाया जा रहा है पूरा देश अपनी मातृभाषा के दिन का जश्न मना रहा है. भारत में ही नहीं बल्कि दूसरे देशों में भी जो लोग हिन्दी बोलना और पढ़ना पसंद करते है आज उनके लिए भी बड़ा दिन है. इस मौके पर “फिरभी न्यूज़” की पूरी टीम ओर से हिन्दी दिवस के शुभ अवसर पर सभी देशवासियो को हार्दिक शुभकामनाएँ.Hindi Diwas

आगे बढ़ने से पहले आपको हिन्दी से जुड़ा कुछ इतिहास बताते हैं, हिन्दी शब्द खुद फारसी शब्द ‘हिन्द’ से लिया गया है हिन्द शब्द का आशय ‘सिंधु नदी की जमीन’ से है. आज से 68 साल पहले 14 सितंबर को हिंदी भाषा को भारतीय संविधान में राष्ट्रीय भाषा का दर्जा दिया गया था.

क्यों हमें हिन्दी की जरूरत है

हिन्दी भाषा पूरे संसार में सबसे ज्यादा बोले जाने वाली चौथी भाषा है, आने वाले कुछ समय में यह लेवल बढ़ने वाला है लगातार इंटरनेट पर भी हिन्दी भाषा का कंटेंट बढ़ता जा रहा है. क्योंकि भारतीय लोग हिन्दी पढ़ना और बोलना अधिक पसंद करते हैं, बहुत सारे लोग अन्य भाषाओं की जानकारी रखने बाबजूद हिन्दी में बात करना ज्यादा पसंद करते हैं क्योंकि हिन्दी उनकी मातृभाषा है इसलिए अपनी मातृभाषा को बढ़ावा देने के लिए वह हिन्दी में बात करना चाहते हैं.

“फिर भी न्यूज़” भी मातृभाषा हिंदी को सपोर्ट करता है हमारा मिशन है कि हम हिंदी को ज्यादा से ज्यादा बढ़ावा दे पाए क्योंकि आज के समय में हमारे देश का युवा हिंदी की ओर कम ध्यान दे रहा है सब के सब इंग्लिश के पीछे पड़े हुए हैं. हम एक पहल कर रहे हैं कि पूरे भारत में हिंदी भाषा को एक नया आयाम दिला पाए.

आज हिन्दी दिवस के मौके पर सोशल मीडिया ट्विटर मातृभाषा हिन्दी के बारे में अपनी-अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर रहे हैं तो आइए जानते हैं कौन क्या कह रहा है-

भारत में अमेरिकी दूतावास के कई अमेरिकी राजनयिक हिन्दी सीखते और बोलते हैं…

ये लिखते हैं उत्तर-दक्षिण, पूरब-पश्चिम ये किसी एक की भाषा नहीं है हिन्दी हम सब की भाषा है.

ये हिन्दी दिवस पर सभी शिक्षकों और साहित्यकारों को ढ़ेर सारी शुभकामनाएं दे रहे हैं.

हिन्दी दिवस के मौके पर दूरदर्शन ने भी लोगों को आज के दिन हिन्दी का स्मरण करने के लिए प्रेरित किया है.

हिन्दी मेरी शान है, हिन्दी से ही अभिमान है, हिन्दी मात्र एक भाषा नही, यह मेरी मातृभाषा है.

हिन्दी दिवस के मौके पर आपके पास भारतीय मातृभाषा को लेकर कितना जुनून है या आपको कितना लगाव है हिन्दी भाषा से कमेंट करके अपनी प्रतिक्रिया अवश्य दें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here