बहू-बेटियों का सौदा करना छोड़ दो

प्रस्तुत पंक्तियों में कवियत्री दुनियाँ को यह समझाने की कोशिश कर रही है कि आज भी दहेज़ के नाम पर ये दुनियाँ हर बेटी का दिल दुखाती है। रिश्ते निभाने के बजाये लोग लेन-देन में ज़्यादा ध्यान रखते है। कवियत्री सोचती है ससुराल और मायके की इन उम्मीदों को पूरा करने में न जाने कितना हर बेटी सहती है। शादी तो जैसे आज कल एक दिखावा हो गया है। Vidaiकोई ये क्यों नहीं देखना किसी ने अपने बच्चे को इतने नाज़ो से पाला है और एक ही पल में अपने कलेजे के टुकड़े को किसी को दे दिया मेरी नज़र में तो शायद इससे बड़ा बलिदान कोई दुनियाँ में हो ही नहीं सकता।कवियत्री सोचती है जब घर-घर में लोग इस बात को अपनायेंगे तो बेटी कभी ये नहीं सोचेगी कि उसका तो कोई घर नहीं उसके लिए फिर उसके दो घर हो जायेंगे। याद रखना दोस्तों इंसान अपने पैसो से नहीं अपने कर्मो से ऊंचा बनता है। जब एक परिवार इस समस्या पर कदम उठायेगा उसे देख सबको एक दिन इस बात का एहसास होजायेगा की बेटी ही सबसे बड़ा धन है या शायद उससे भी कही ऊपर उसकी तुलना तो कभी किसी से करी नहीं जा सकती।

अब आप इस कविता का आनंद ले।

बेटियाँ ही सबसे बड़ा धन है।
उनके स्पर्श में देखो, न जाने कितना अपनापन है।
अपने माता पिता को छोड़,
पराये घर में बस जाती है।
अपनी इच्छाओ को भूल,
दूसरों के रंग में रंग जाती है।
फिर क्यों ये दुनियाँ उसके मायके से,
पैसो की भी उम्मीद रखती है?
ज़रा पूछो उस बेटी के दिलसे,
ये बात इस दुनियाँ की उसके दिल में कितनी चुभती है।
सबकी इच्छाओ की पूर्ति में,
वो बेचारी तो पिस ही जाती है।
अपना हाले दिल, अक्सर वो ईश्वर को ही बताती है।
आखिर कब ख़तम होगी, ये लेन-देन की बेला।
इस दुनियाँ की भीड़ में,
हर इंसान है देखो कितना अकेला।
जब लेन-देन से ज़्यादा लोग
एक दूसरों का साथ निभायेंगे।
फिर क्या पराया और क्या अपना
हर बेटी के अपने दो घर हो जायेंगे।

धन्यवाद।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here