मुकुल रॉय का TMC छोड़ना BJP के लिए कितना फायदेमंद साबित होगा

आपसी मतभेद के कारण मुकुल रॉय ने टीएमसी से इस्तीफा दे दिया है और जल्द ही वह राज्यसभा की सदस्यता से भी इस्तीफा दे देंगे. मुकुल रॉय, ममता बनर्जी के बाद दूसरा ऐसा चेहरा है जो बंगाल में राजनीति को लेकर माहिर है. तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ममता बनर्जी और मुकुल राय के संबंध तब से खराब है जब से मुकुल राय ने बीजेपी के 1 बड़े नेता के साथ वार्तालाप की.MAMTA BANARJEE AND MUKUL ROY

कैसे पड़ी दरार

टीएमसी प्रमुख और बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बाद राजनीति के बड़े स्तर पर अगर किसी का नाम लिया जाता है तो वह है मुकुल रॉय है. शारदा चिट फण्ड घोटाले में नाम आने के बाद मुकुल CBI के निशाने पर थे और सीबीआई द्वारा की गई पूछताछ के दौरान मुकुल ने उनका पॉजिटिव जवाब दिया जिस कारण ममता बनर्जी उनसे खिलाफ हो गई. क्योंकि उन दिनों ममता बनर्जी सीबीआई और केंद्र सरकार का जमकर विरोध कर रही थी. नाराजगी यहीं पर नहीं थमी उन्होंने अखिल भारतीय महासचिव के पद से भी मुकुल रॉय को हटा दिया और बाद में राज्यसभा में पार्टी के नेता के पद से भी

क्या बीजेपी को होगा इसका फायदा?

मुकुल रॉय और ममता बनर्जी की दरार का फायदा BJP को होगा ऐसा कहने में कोई बुराई नहीं है क्योंकि जिस तरह 2015 में हेमंत विस्वा कांग्रेस छोड़ बीजेपी में शामिल हुए थे. उसी तरह बीजेपी मुकुल को आपसी मतभेदों के कारण अपनी पार्टी में शामिल करना जरूर चाहेगी. क्योंकि बीजेपी भी बंगाल के अंदर अपनी सरकार बनाने के भरपूर प्रयास कर रही है जिसके चलते मुकुल रॉय उनके लिए एक अहम हथियार साबित हो सकते हैं.

[ये भी पढ़ें: मूर्ति विसर्जन पर हाईकोर्ट फैसले के बाद नाराज दिखी ममता बनर्जी]

क्या TMC की बढ़ेगी मुश्किले?

यह तो बिल्कुल साफ है कि मुकुल रॉय के इस्तीफा देने के बाद टीएमसी की मुश्किलें जरुर बढ़ेंगी क्योंकि किसी भीड़ को वोट में बदलने का काम मुकुल रॉय को अच्छी तरह से आता है और उनके इन्हीं प्रयासों के कारण ममता बनर्जी आज सरकार में बनी हुई है. सामने चेहरा ममता बनर्जी का बेशक रहता है मगर उसके पीछे का मैजिक मैनेजमेंट मुकुल रॉय ही करते हैं. मुकुल राय को पता होता है कि किस सीट से कितने वोट होने चाहिए और उसको वहां से उतने वोट निकालने में वो माहिर है तो ऐसे में टीएमसी की मुश्किलें बढ़नी लाजमी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here