मां की गुहार सुन आतंकवाद को लात मारकर लौटा, फुटबॉलर से आतंकी बना माजिद

यह तो आपने सुना ही होगा की मां की ममता और मां के आंसू पत्थर दिल वालों को भी पिघला देते हैं मगर यह किस्सा आज अनंतनाग में सच होता दिखाई दिया जब 8 दिन पहले फुटबॉलर से आतंकी बने माजिद ने आतंकवाद को लात मार दी.Majidगत बुधवार माजिद कुलगाम में एक आतंकी के जनाजे में भी शामिल हुआ था जिस आतंकी का जनाजा था वह माजिद का दोस्त था और उसके जनाजे में शामिल होने के बाद से ही माजिद ने आतंकी बनने की सोच ली तथा अपने सोशल मीडिया अकाउंट Facebook पर 29 अक्तूबर को राइफल के साथ अपनी प्रोफाइल पिक्चर लगाकर अपने इरादे को सबके सामने रख दिया.

अनंतनाग के बेहतरीन फुटबॉलर की मां तथा परिवार वालों का तबसे रो रो कर बुरा हाल है जबसे उनको मालूम चला कि उनका बेटा आतंकवादी संगठन में शामिल हो चुका है. माजिद को वापस बुलाने के लिए मजीद के दोस्त तथा उसके परिजन हर जगह गुहार लगा रहे थे जिसके चलते माजिद की माँ का वीडियो सामने आया जिसमें उनका रो-रो कर बुरा हाल था और वह माजिद से वापस आने की गुहार लगा रही थी.

सूत्रों के अनुसार बीती रात सेना ने अनंतनाग के माजिद इरशाद खान को अनंतनाग और कुलगाम के के बीच वनपोह में घेर लिया तथा सेना ने उससे हथियार छोड़ने के लिए कहा जिस पर वह राजी हो गया और आतंकवाद को लात मार सरेंडर कर दिया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here