मूर्ति विसर्जन पर हाईकोर्ट फैसले के बाद नाराज दिखी ममता बनर्जी

ममता बनर्जी सरकार द्वारा बंगाल मूर्ति विसर्जन पर रोक लगाए जाने को लेकर हिंदू संगठन द्वारा दर्ज की याचिका पर कल कोलकाता हाईकोर्ट ने अपना फैसला सुनाया. कोलकाता हाईकोर्ट ने ममता बनर्जी सरकार को फटकार लगाते हुए कहा है कि दुर्गा पूजा के बाद मूर्ति विसर्जन और मुहर्रम जुलूस दोनों एक ही दिन निकलेंगे ऐसे में राज्य सरकार को यह तय करना है कि मोहर्रम और मूर्ति विसर्जन किस किस रास्ते से निकालना है.Mamta Banarjee

मामला क्या है

दरअसल, दुर्गा पूजा के बाद मूर्ति विसर्जन और मोहर्रम जुलूस और दोनों 1 अगस्त को ही है ऐसे में ममता बनर्जी सरकार ने मूर्ति विसर्जन पर रोक लगा दी थी. पश्चिम बंगाल राज्य सरकार ने यह फैसला जारी किया था कि मूर्ति विसर्जन का कार्यक्रम 1अक्टूबर की जगह 2 अक्टूबर को होगा. ममता सरकार के इस फैसले से नाराज हिंदू संगठन ने हाईकोर्ट में इस मामले को लेकर याचिका दर्ज की थी जिसका फैसला 21 सितंबर 2017 यानी गुरुवार को हाईकोर्ट ने सुना दिया है.

[ये भी पढ़ें: राष्ट्र सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए रोहिंग्या मुसलमानों को देश में नहीं रख सकते: राजनाथ सिंह]

हाई कोर्ट ने अपने इस फैसले में ममता सरकार को फटकार लगाते हुए कहा है कि राज्य सरकार मूर्ति विसर्जन पर रोक नहीं लगा सकती है दोनों ही पर्व (मूर्ति विसर्जन और मुहर्रम) 1 अक्टूबर को ही होंगे. ऐसे में राज्य सरकार को यह तय करना है कि जुलूस और मूर्ति विसर्जन किस रास्ते से निकाले जाएंगे.

हाईकोर्ट के फैसले पर नाराज दिखी ममता बनर्जी

हाईकोर्ट के फैसले के बाद पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी काफी नाराज दिखी, उन्होंने अपने बयान में कहा कि ‘मेरा गला काट लो लेकिन मुझे यह मत बताओ कि मुझे क्या करना है, मैं पश्चिम बंगाल की सीएम हूं और मैं पश्चिम बंगाल में दंगे या शांति में दखल को बर्दाश्त नहीं कर सकती’.

साथ ही ममता बनर्जी ने कहा है कि जब मैं किसी हिंदू महोत्सव का शुभारंभ करती हूं तब मुझ पर त्रुटि करण का आरोप नहीं लगाया जाता है लेकिन जब मैं मुस्लिम समुदाय के लिए नमाज अदा कर लूं तो विरोधी उसे त्रुटिकरण बताते हैं. अगर विरोधी पक्ष इसे त्रुटिकरण का नाम देता है तो मैं यह मरते दम तक करुंगी.

फैसले के बाद बीजेपी में खुशी की लहर

बंगाल की बीजेपी नेता रूपा गांगुली ने कोलकाता हाईकोर्ट के इस फैसले की काफी सराहना की है और कहा है कि हम इस फैसले से बहुत खुश हैं क्योंकि यह फैसला जनता के हित में है. उन्होंने यह भी कहा है कि ममता बनर्जी बीजेपी से डर रही है क्योंकि बीजेपी उनसे ज्यादा अच्छा कर रही है उन्हें डर है कि कहीं उनके हाथों से सत्ता ना चली जाए इस कारण वह जानबूझकर लोगों का विभाजन कर रही हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here