नेहरू युवा केंद्र शिवहर के तत्वावधान में राष्ट्र के विकास में युवा की भूमिका विषय पर परिचर्चा आयोजित

शिवहर: नेहरू युवा केंद्र शिवहर के तत्वावधान में राष्ट्र के विकास में युवा की भूमिका नामक विषय पर परिचर्चा आयोजित की गई। कार्यक्रम का शुभारंभ रविन्द्र कुमार ‘रवि’ कार्यक्रम समन्वयक नेहरू युवा केंद्र जिला परिषद् अध्यक्ष श्रीमती निलम देवी, समाजसेवी अजबलाल चौधरी, नेहरू युवा केंद्र के कार्यक्रम पदाधिकारी श्री ध्रुव कुमार सिंह, युवा समाजसेवी मनोज सिंह एवं राष्ट्रीय स्वयंसेवक अनिल रजक ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर किया।Nehru yuva kendra sheoHARबतौर मुख्य अतिथि श्रीमती निलम देवी ने देश के विकास में युवा की भूमिका विषय पर परिचर्चा के क्रम में युवाओं को देश की रीढ़ बताया। वहीं नेहरू युवा केंद्र के कार्यक्रम पदाधिकारी श्री ध्रुव कुमार सिंह ने उपस्थित युवाओं से आह्वान किया कि वे स्वामी विवेकानंद के सपनों को साकार करने में नेहरु युवा केन्द्र का सहयोग करें।

समाजसेवी अजबलाल चौधरी ने अपने संबोधन में कहा युवा सकारात्मक सोच के साथ ही देश के विकास में अग्रणी भूमिका अदा कर सकते हैं।अतः युवा सकारात्मक सोच के साथ आगे बढ़े। वहीं युवा कवि संजय कुमार ने परिचर्चा में भाग लेते हुए देश के विकास में युवा की भूमिका नामक विषय पर विस्तृत चर्चा करते हुए कहां विश्व में सबसे अधिक युवा शक्ति भारत में हैं लेकिन उस युवा शक्ति का जितना लाभ देश को मिलना चाहिए था। वह नहीं मिल पा रहा हैं क्योंकि अधिकांश युवा शक्ति दिशा विहीन हैं।nehru yuva kendra sheoharएक आंकड़े के अनुसार भारत में 70% अपराधिक मामले युवाओं के नाम दर्ज हैं। ऐसे में यह कहा जा सकता हैं कि अधिकांश युवा शक्ति देश के लिए वरदान नहीं अभिशाप साबित हो रहें हैं। अतः अभिभावकों से अनुरोध हैं कि वे अपने बच्चें को डाॅक्टर, इंजीनियर, आईएएस, आईपीएस बनाने से पहले चरित्रवान बनाने की सोच के साथ शिक्षा दिलवाएं। संघर्षशील युवा अधिकार मंच के अध्यक्ष आदित्य कुमार ने युवा को देश के विकास का धुरी बताते हुए कहा कि युवा के इर्द-गिर्द ही देश के विकास की पहिया घूमती हैं।

अतः युवा पीढ़ी को अपनी भूमिका के प्रति जागरूक होना चाहिए।वहीं अंजय कुमार ने परिचर्चा के दौरान अपने संबोधन में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी की कविता छोटे मन से कोई बड़ा नहीं हो सकता। टूटे मन से कोई खड़ा नही हो सकता के माध्यम से उपस्थित युवाओं को यह बताने कि कोशिश की यदि युवाओं के अंदर आत्मविश्वास की कमी होगी तो देश को युवा शक्ति का बेहतर लाभ नहीं मिल पाएगा अतः युवा पीढ़ी अपने आत्मविश्वास को सदैव बेहतर बना कर रखे। वहीं आरटीआई कार्यकर्ता सह श्रृंगार रस के कवि मुकुंद प्रकाश ने कार्यक्रम का संचालन करते हुए बीच-बीच मेें युवाओं को अपनी कविताओं से आंदोलित करते रहें। मौके पर नेहरू के केंद्र सभी प्रखंड स्वयंसेवक सहित बड़ी संख्या में युवा उपस्थित थे।

[स्रोत- संजय कुमार]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here