सिणगारा अजमेर में भव्य कार्यक्रम रामलीला एवं वीर तेजाजी महाराज की कथा का आयोजन

11 फरवरी 2018 को सिणगारा ग्राम में लगातार आठवें दिन रामलीला कार्यक्रम मंडल की ओर से बाबा रामदेव जी महाराज का कार्यक्रम प्रस्तुत किया जाएगा। रामलीला मंडल ने पहले भगवान राम की राम कथा, भगवान राम की जीवन लीला पर प्रकाश डाला और किस प्रकार भगवान राम बालक से जवान बने, किस तरह उनके सामने विपदाएं आई, 14 साल वनवास गए, रावण से लड़े लंका को जलाया और राजतिलक किया, सारा कार्यक्रम रामलीला का बहुत ही शानदार तरीके से प्रस्तुत किया गया।jhankiपिछले 2 दिनों से लोक देवता वीर तेजाजी महाराज कि जीवनी तेजा कथा (जन्म, विवाह, जवानी, हल चलाना, भाभी के बोल पर सासरे जाना, बाग मे लिलण के साथ घुमना, सासु का स्राप, गौरी पैमल मिलन, लाछा गुजरी की गाये लाना, मीणाओ को मार गिराकर युध्द करना, जाट क्षत्रिय धर्म निभाना, अपने वचन पर नाग देवता की बाम्बी पर जाकर प्राण देकर स्वर्ग प्राप्त करना, गौरी पैमल विलाप, सत के साथ तेजाजी की चिता मे पैमल साथ रहकर सती माता होना सम्पुर्ण जीवन लिला का कार्यक्रम प्रदर्शित किया।

आज बाबा रामदेव की लीला का कार्यक्रम आयोजन किया जाएगा कार्यक्रम में सिंघारा ग्रामीण वासी सभी भक्तजन बुजुर्ग, पुरुष, माताएं, बहने, महिला और युवा बड़ी संख्या में उपस्थित रहते हैं और रामलीला मंडल का हौसला बनाए रखने में ग्रामीणवासी किसी भी प्रकार से कमी नहीं रखते हैं। यह रामलीला मंडल सिंघारा वासियों के मन में तहे दिल से बैठ गया है जिसको यहां से जाने नहीं दे रहे हैं । क्योंकि आज 11 फरवरी 2018 को रामलीला मंडल अपना कार्यक्रम सिणगारा से समाप्त करके निकटवर्ती ग्राम रघुनाथपुरा में जा रहे थे लेकिन इनके प्लान को मिस कर दिया और सिंघारा ग्रामीण वासियों ने 2 दिन और बढ़ाया।

विशेष:- बालक स्नेहिल भाई ‘अशोक’ मंडल के सबसे कम उम्र एवं प्रिय स्नेहिल ग्रामीण वासियों के तह दिल को लुभाने वाला बालक भाई ‘अशोक’ ने सभी लोगों को अपनी ओर आकर्षित किया और भाई बालक अशोक युवाओं के दिल में इस तरह बस गया जिस तरह एक मोह निवास करता है मन मे, बालक लगभग 15 वर्ष का है, जो 9th क्लास में पढ़ाई करता है, मंडल की कुछ परिस्थितियों के कारण बालक को कलाकार के रूप में बुलाया गया और भाई ‘अशोक’ ने पूरे ग्रामीण वासियों का दिल जीत लिया यह है एक भाई “अशोक” की एक महान सफलता है। आगे के 2 दिन में क्या होता है वह भी देखा जाएगा सभी क़ि नजरें भाई अशोक के ऊपर है जिन्होंने सांस्कृतिक कार्यक्रम में अपनी अहम छाप लगाई सभी के सामने ।

कार्यक्रम रात 07.30 बजे से 11.00 बजे तक चलता है तथा ग्राम वासियो के अनुसार कभी-कभी कार्यक्रम 12.00 बजे तक चलता है व लोकप्रिय गानो, भजनो पर सांस्कृतिक कार्यक्रम होते है।

[स्रोत- धर्मी चन्द]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here