मीडिया से रोते हुए प्रवीण तोगड़िया ने कहा कि मेरा एनकाउंटर करने की साजिश रची जा रही है

विश्व हिंदू परिषद के अंतरराष्ट्रीय महासचिव और पेशे से विख्यात कैंसर सर्जन प्रवीण तोगड़िया ने लंबे समय की बेहोशी के बाद होश में आते ही IB पर गंभीर आरोप लगाए हैं. तोगड़िया ने मीडिया को बताया कि उनके एनकाउंटर की साजिश रची जा रही है. मामला सोमवार से ज्यादा भड़का हुआ है जबसे तोगड़िया एक पार्क में बेहोशी की हालत में मिले. इसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया होश में आने के बाद तोगड़िया ने रोते हुए आप बीती बतायी. pravin-togadiaप्रवीण तोगड़िया ने मीडिया को बताया कि कुछ समय से मेरी आवाज दबाने का हर कदम पर प्रयास किया जा रहा है जबकि मैंने कोई गैर कानूनी काम नहीं किया है बस मैंने राम मंदिर, गौ हत्या पर कानून, विस्थापित कश्मीरियों को बसाने और देश के युवाओं के लिए हरदम आवाज उठाने का काम किया है और मुझे नहीं लगता कि यह सब गुनाह है. अगर मैंने किसानों के लिए आवाज उठाई है तो मैंने गलत नहीं किया और किसानों को उनकी लागत से डेढ़ गुना दाम मिलना ही चाहिए. अगर मैंने दस हजार डॉक्टरों को तैयार किया है कि वह गांव गांव तक लोगों को चिकित्सा की जरूरतें पूरी करा सके तो भी मुझे नहीं लगता कि मैंने कोई अपराध किया है. सरकार मुझे डराने का काम कर रही है यहां तक की IB के लोगों ने भी डॉक्टरों को घर-घर जाकर डराने का प्रयास किया है.

अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए रुंधे गले से प्रवीण तोगड़िया ने बताया कि यह सिलसिला गुजरात से शुरू हुआ और मकर सक्रांति के दिन राजस्थान पुलिस की एक टुकड़ी गिरफ्तारी के लिए आयी. मैं मुंबई से एक पब्लिक सभा करके रात्रि 1:00 बजे लौटा था. तोगड़िया ने बताया कि सुबह जब वह पूजा कर रहे थे तो एक पुलिस वाला आया और बोला कि आप तुरंत निकल जाओ एनकाउंटर करने आने वाले हैं.

उन्‍होंने कहा कि मैं इससे डरने वाला नहीं हूं तथा पूजा के दौरान एक फोन आया और फोन पर कहा गया कि पुलिस स्टेशन से राजस्थान पुलिस का काफिला गुजरात पुलिस के साथ निकल चुका है मैंने जल्दी से अपने कपड़े और पैसे लिए तथा कमरे से बाहर आया और ऑटो लेकर निकल गया. रास्ते में राजस्थान होम मिनिस्टर को फोन किया तो उन्होंने किसी भी कार्यवाही से मना कर दिया और मैंने अपना फोन स्विच ऑफ कर लिया.

उसके बाद मैं राजस्थान में ही एक आदमी के घर रुका तथा पुलिस से जानना चाहा तो पता चला कि वह एक अरेस्‍ट वारंट लेकर आए थे ऐसे में मुझे समझ नहीं आता अगर मैं पुलिस के हाथ आता तो पुलिस किसी षड्यंत्र के तहत मुझे फंसा कर क्या करती यह मुझे नहीं पता है मगर मेरे खिलाफ बहुत बड़ा षड्यंत्र रचा जा रहा है.

अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए तोगड़िया ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि वह कानून का सम्मान करते हैं इस लंबी बेहोशी के बाद अब मेरी तबीयत काफी खराब है. जब मैं ठीक हो जाऊंगा और डॉक्टर मुझे अनुमति देंगे तो मैं स्वयं न्यायालय मैं समर्पण कर दूंगा. मुझे नहीं लगता कि मेरे साथ कोई अन्याय होगा क्योंकि मैंने कोई अपराध नहीं किया है और मैं कभी न्यायालय से भागा भी नहीं हूं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here