छोटू में पीजो मीटर ट्यूबवेल से निकली मीठे नीर की धार, ग्रामीणों में दौड़ी खुशी की लहर

गुड़ामालानी उपखंड क्षेत्र की ग्राम पंचायत छोटू में मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान के तहत बने पीजो मीटर ट्यूबवेल से मीठा पानी निकलने से ग्रामीणों में खुशी की लहर दौड़ पड़ी है। मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान के अंतर्गत पीजो मीटर ट्यूबवेल खुदाई का कार्य किया गया है।Sweet neer edge coming out of piezometer tube bail in Chhotuयह कार्य को भू-जल विभाग राजस्थान द्वारा कार्यरत हैं। ग्राम पंचायत छोटू में लंबे समय से पेजयल की समस्या बनी हुई है। अब पीजो मीटर टयूबवेल से मीठा पानी निकलने से क्षेत्र के लोगों को राहत मिलेगी। पीजो मीटर ट्यूबवेल की गहराई 950 फ़ीट बतायी जा रही है। अब इस ट्यूबवेल को जलदाय विभाग अपने स्तर पर संचालन करेगा। इससे वहीं पीजो मीटर ट्यूबवेल से भू-जल स्तर का पता लगा सकेगा।पीजो मीटर से बारिश से पहले बारिश के बाद में भू-जल स्तर की जानकारी ली जा सकेगी। इससे बारिश के बाद जलस्तर का पता चल सकेगा।

जलदाय विभाग ने भेजा नये ट्यूबवेल का प्रस्ताव

पीजो मीटर ट्यूबवेल में मीठा पानी निकलने के बाद इधर जलदाय विभाग ने भी अलग से 10इंच ट्यूबवेल खुदाई के लिए प्रस्ताव भेजा । जलदाय विभाग के अधिकारियों ने बताया कि क्षेत्र में जल संकट की समस्या का स्थायी समाधान के लिए एक अलग से ट्यूबवेल प्रस्ताव भेजा गया है।

क्या है पीजो मीटर?

पीजोमीटर भू-जल स्तर नापने का उपकरण है। यह ट्यूबवैल खोदकर उसमें लगाया जाएगा। इससे जल स्तर का पता चल सकेगा। पीजो मीटर लगने पर बारिश से पहले भू-जल स्तर नापा जाएगा। अभियान के तहत काम पूरे होने पर बारिश के बाद भू-जल स्तर कितना बढ़ा इसका पता चल सकेगा।

[स्रोत- नरीगा राम]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here