उज्जैन के गांव बांदका में शिक्षकों ने विद्यार्थियों को उचित सामग्री भेंट की

शिक्षा जीवन का मूल आधार होती हैं और इसी आधार नींव पर ही पुरे जीवन की ईमारत खड़ी होती हैं. जिसमे कारीगर का काम शिक्षक करते हैं जो एक अबोध बालक को अज्ञानरूपी अंधकार से निकलकर ज्ञानरूपी प्रकाश की ओर अग्रसर करता हैं. इसी प्रकार का नजारा उज्जैन( मध्यप्रदेश) के एक छोटे से ग्राम बांदका में देखने को मिला जहा विद्यार्थियों को उचित सामग्री देकर पढ़ने और नाम रोशन कारण के लिए प्रेरित किया गया. sarva shiksha abiyanसर्वशिक्षा अभियान में रुचि लेते हुए आज मध्यप्रदेश उज्जैन के एक छोटे से ग्राम बांदका में शासकीय विद्यालय में सभी बच्चों को प्राचार्य व शिक्षको द्वारा उचित पुरस्कार दिया गया पालको का सम्मान किया गया और सर्वशिक्षा अभियान के लिए सब पढ़े सब बढ़े की टीम के अंतर्गत लोगों को प्रेरित किया गया.

इस मौके पर सभी जरूरतमंद विद्यार्थियों को प्राचार्य व शिक्षकों द्वारा उचित सामग्री भेंट की गई जिसमें की सभी ग्रामवासी शिक्षकों का विशेष योगदान रहा इस मौके पर समस्त ग्राम वासियों ने फिरभी स्थानीय मीडिया हाउस का हार्दिक व्यक्त किया जिन्होंने लोगों तक उनकी आवाज पहुंचाई. sarva shiksha abhiyanप्राचार्य ने भी इस मौके पर डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम जी के जीवन पर प्रकश डाला और बच्चो को पढाई के लिए प्रेरित किया. यहां का पूरा आयोजन अध्यक्ष डॉक्टर कोमल जी एवं पत्रकार जीवन सिंह वाघेला की उपस्थिति में संपन्न हुआ.

[स्रोत- जीवन सिंह वाघेला]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here