पान की पिचकारी धरती पर फेंकने वालो को वंदे मातरम कहने का अधिकार नहीं: नरेंद्र मोदी

बेहद जरूरी सूचना खबरदार, उन सब के लिए जो पान खाकर जगह-जगह पर गंदगी फैलाते हैं अगर आज के बाद पान खाकर धरती पर थूकने की कोशिश की/गन्दगी फैलाने की कोशिश की तो आपके पास वंदे मातरम कहने का अधिकार नहीं होगा. ऐसा हम नहीं कह रहे हैं ऐसा भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का कहना है.Narendra Modi

महापुरुष स्वामी विवेकानंद जी के शिकागो भाषण के 125 साल पूरे होने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली के विज्ञान भवन में युवाओं को संबोधित किया जिसमें उन्होंने जोर दिया. कि हमें अपने देश को साफ सुथरा रखना है और आगे बढ़ाना है. किंतु जो लोग पान खाकर उसकी पिचकारी धरती पर फेंकते हैं और हमारी धरती माता को गंदा करते हैं उसे वंदे मातरम कहने का कोई अधिकार नहीं है.

[ये भी पढ़ें: मुझे दुख हैं मोदी जैसा गुंडा मेरा प्रधानमंत्री है: दिग्विजय सिंह]

अपने भाषण में संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा जो लोग पान खाकर पिचकारी धरती पर मारते हैं उन्हें भारत माता की जय बोलने का भी हक नहीं है. जो लोग हमारी धरती मां को गंदा कर रहे हैं उन्हें वंदे मातरम बोलने का भी हक नहीं है.

उन्होंने अपने भाषण में जोर देकर कहा कि “मैं जानता हूं मेरी यह बात बहुत सारे लोगों को चोट पहुंचाएगी किंतु ऐसा करना बहुत जरूरी है” यदि आप अपनी धरती मां को साफ-सुथरा नहीं रख सकते तो आपको वंदे मातरम कहने का कोई हक नहीं है.

[ये भी पढ़ें: मोदी सरकार के ये मंत्री क्यूँ दे रहे हैं इस्तीफा]

जिस समय उन्होंने अपना भाषण देना शुरु किया तो उन्होंने कहा जब मैं यहां आ रहा था तो चारों तरफ वंदे मातरम के नारे सुन रहा था तो मेरे रोंगटे खड़े हो गए. किंतु जब मुझे समझ में आया कि कुछ लोग पान की पिचकारी फेंक कर धरती मां को गंदा करते हैं तो उन्हें वंदे मातरम कहने का कोई अधिकार नहीं होना चाहिए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here