विश्वास रखो अपने विश्वास पर

प्रस्तुत पंक्तियों में कवियत्री दुनियाँ को यह समझाने की कोशिश कर रही है कि अपने विश्वास पर आजीवन विश्वास रखना कोई सरल कार्य नहीं क्योंकि ये मन बड़ा ही चंचल है ये हमे कभी कभी अंदर से इतना तोड़ता है की इंसान का खुदसे विश्वास ही उठ जाता है और फिर वो इंसान खुदसे ज़्यादा किसी और पर विश्वास करने लगता है अपनी क्षमताओं को भूल जाता है।

Trust

कवियत्री सोचती है अगर इंसान के इरादे नेक और पक्के है तो ब्रम्हांड की कोई भी शक्ति उसके सपनो को पूरा करने से रोक नहीं सकती बस शर्त यही है की राह सच्ची और कल्याण कारी होनी चाहिये क्योंकि ऐसी परोपकारी राह में तो ईश्वर भी इंसान का साथ देते है बस वक़्त से पहले किसी को अपनी इच्छाये खुल के मत बताओ पहले खुद करके दिखाओ फिर लोगो को बताओ वरना कोई तुम्हारी बात नहीं मानेगा बस अपने विश्वास पर विश्वास रखो क्योंकि तुम्हारा सपना कोई और नहीं देख सकता।

अब आप इस कविता का आनंद ले।

विश्वास रखो अपने विश्वास पर,
तुम्हारा विश्वास ही जीतेगा।
दुख का चाहे, कितना गहरा क्षण ही क्यों न हो,
वो भी तुम्हारा सुख में ही बीतेगा।
क्योंकि अपने विश्वास पर विश्वास रखने वाले,
लोग बहुत ही कम होते है।
दूसरों को महान समझ उन पर खुदसे ज़्यादा भरोसा कर,
लोग अक्सर धोखा खाके रोते है।
तुम्हारी क्षमताओं का सच, केवल तुम ही जानते हो।
अपने विश्वास की शक्ति को केवल तुम ही तो मानते हो।
फिर कैसे कोई यकीन करले तुम्हारी बातो पर,
तुम्हारे विश्वास का प्रमाण पहले तुम्हे ही देना होगा।
अपने विश्वास की पूर्ति की राह में तुम्हे किसी से कुछ नहीं लेना होगा।
क्योंकि जब वही विश्वास हकीकत बनकर आयेगा।
तुम्हारे विश्वास पर फिर सबको भी विश्वास हो जायेगा।

धन्यवाद।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here