यूपी बजट 2018-19: चार लाख 28 हजार 384 करोड़ रुपए के बजट में देखिए आपको क्या मिल रहा है

उत्तर प्रदेश वित्त मंत्री राजेश अग्रवाल ने 16 फरवरी 2018 को उत्तर प्रदेश का दूसरा बजट पेश किया है यह चार लाख 28 हजार 384 करोड़ रुपए का बजट पिछले साल की तुलना में 11.4 प्रतिशत ज्यादा है. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पिछले साल 3.84 लाख करोड़ रुपए का बजट पेश किया गया था. आइए जानते हैं इस बजट में किसको क्या मिला है.UP Budget 2018-19आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस चार लाख 28 हजार 384 करोड़ के बजट में 14341.89 करोड रुपए की नई योजनाएं शामिल है तो वहीं यह बजट पिछले साल से 11.4 प्रतिशत अधिक है और जिसमें 7 हज़ार 485 करोड़ 6 लाख का अनुमानित घाटा भी शामिल है. यह बात तो थी बजट की कुछ मुख्य तथ्यो किअब जानते हैं कि उत्तर प्रदेश के युवाओं सहित किसानों को बजट में क्या मिला है

1. सबसे पहले बात करते हैं उत्तर प्रदेश के युवाओं की:

उत्तर प्रदेश के युवाओं के लिए इस बजट के अंतर्गत एकलव्य कीड़ा कोष की स्थापना के लिए 25 करोड रुपए की भारी रकम शामिल की गई है तो वहीं स्पोर्ट कॉलेज और स्टेडियम की स्थापना तथा विकास के लिए 74 करोड रुपए साथ ही राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं के विजेताओं के लिए 3 करोड रुपए शामिल है.

2. दूसरे नंबर पर बात करते हैं धर्मार्थ कार्यों की:

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि कैलाश मानसरोवर भवन गाजियाबाद में भवन निर्माण के लिए94.26 करोड़, नई पर्यटन नीति2018 के तहत रामायण सर्किट कृष्णा सर्किट सूफी सर्किट बौद्ध सर्किट बुंदेलखंड सर्किट जैन सर्किट के लिए 70 करोड रुपए शामिल है. इतना ही नहीं बजट के अंतर्गत ब्रज तीर्थ विकास परिषद की स्थापना एवं सुरक्षा के लिए 100 करोड रुपए समशान के लिए 100 करोड़ लघु सिंचाई के लिए 36 करोड़ और अयोध्या की दीपावली और ब्रज की होली के आयोजन के लिए 100 करोड़ शामिल किए गए हैं.

3. किसानों तथा गांवों को क्या मिला:

उत्तर प्रदेश सरकार का जिन पर सबसे ज्यादा फोकस रहना चाहिए वह है किसान और ग्रामीण विकास तो आपकी जानकारी के लिए बता दें कि किसानों को खाद के लिए 100 करोड़, गेहूं के लिए 5500 केंद्र खोले जाएंगे, सिंचाई सरयू नहर परियोजना के लिए 1 हजार 614 करोड़ रुपये, पंचायती राज स्वच्छ भारत मिशन के अंर्तगत 5000 हजार करोड़ की व्यवस्था, अर्जुन सहायक परियोजना हेतु 741 करोड़ का बजट,मध्य गंगा नहर परियोजना हेतु 1701 करोड रुपए का बजट, कनहर सिंचाई परियोजना हेतु 500 करोड रुपए का बजट, राष्ट्रीय ग्रामीण पेयजल कार्यक्रम हेतु 1 हजार 500 करोड़ रुपए, राज्य ग्रामीण पेयजल कार्यक्रम हेतु 120 करोड़ रुपए की व्यवस्था प्रस्तावित.

4. उत्तर प्रदेश के टूटे-फूटे सड़क तथा परिवहन के लिए क्या मिला:

बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे के लिए 650 करोड़ रूपए, गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस-वे के लिए 550 करोड़, पूर्वांचल एक्सप्रेस वे के लिए 1000 करोड, पुलों के लिए 1817 करोड़ का बजट, बुंदेलखंड को सड़क के लिए 200 करोड़, यूपी में सड़क निर्माण को 11343 करोड़ का बजट, एनसीआर मेट्रो के लिए 500 करोड़, कुंभ मेले के लिए 1500 करोड़ का बजट, लखनऊ आगरा के लिए 500 करोड़, वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट के लिए 250 करोड़, प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के लिए 2 हजार 8 सौ 73 करोड़, मार्गों की नवीनीकरण अनुरक्षण एवं मरम्मत कार्य के लिए वर्ष 2018 19 में 3324 करोड़ की बजट व्यवस्था, RIDF योजना के अंतर्गत ग्रामीण क्षेत्रों में मार्गों के नवनिर्माण चौड़ीकरण और सुदृढ़ीकरण तथा सिद्ध के निर्माण हेतु 920 करोड़ की व्यवस्था इस बजट में पेश गई है

5. अगर आप उत्तर प्रदेश में स्टार्टअप की सोच रहे हैं तो आपके लिए भी है बजट में कुछ खास:

बजट में मुख्यमंत्री स्वरोजगार के लिए 100 करोड़, दीनदयाल लघु डेयरी योजना को 75 करोड़, राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अंतर्गत लगभग 1040 करोड रुपए की व्यवस्था प्रस्तावित, औद्योगिक निवेश नीति 2012 हेतु 600 करोड़ रुपए तथा नई, हथकरघा और हैंडलूम के लिए 50 करोड़, बुनकर को रियायती दर पर बिजली के लिए 150 करोड़, खादी के लिए सरकार की झोली नहीं खुली, एक जनपद एक उद्योग के लिए 250 करोड़, स्टार्टप फंड के लिए 250 करोड़ रूपये बजट में शामिल किये गए हैं .

इतना ही नहीं बजट में आवास, चिकित्सा, बिजली, शिक्षा, अल्पसंख्यक, महिला विकास सहित अन्य बातो पर भी पूरा ध्यान रखा गया हैं. हालाँकि विपक्ष से अभी कोई खास प्रतिक्रिया देखने को नहीं मिली, मगर देखते हैं कि नजत विपक्ष को भी पसंद आता हैं कि नहीं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here