लक्ष्य को पाने के लिए खुदसे लड़ना पड़ता है।

प्रस्तुत पंक्तियों में कवियत्री दुनियाँ को बता रही है कि कैसे उन्होंने अपने ही अंदर युद्ध छेड़ा और लिखने का मन न होते हुये भी इस कविता की रचना की। जैसे की वह हमेशा दुनियाँ से कहती है की जीवन की लड़ाई स्वयं से है किसी दूसरों से नहीं। कभी-कभी हमारा कुछ काम करने का मन नहीं होता लेकिन फिर भी खुदसे लड़कर वो करना होता है अब ये आप पर निर्भर करता है की आप वही काम ख़ुशी-ख़ुशी करे या दुखी मन से। Goalहम सब का इस दुनियाँ में आने का कोई मकसद होता है उस लक्ष्य को छोड़ अगर हम कुछ और करने भागते है तो वहाँ हमारा मन नहीं लग पाता और हम फिर अपने लक्ष्य की ओर निकल पड़ते है। हर इंसान अनोखा है अलग है। किसी की भी तुलना किसी से नहीं करी जा सकती।

अब आप इस कविता का आनंद ले।

न जाने क्यों आज लिखने का दिल नहीं करता।
ये दिल भी न जाने क्यों, हर लम्हे पे मरता।
मैंने पूछा क्या हर दिन कुछ लिखना ज़रूरी है?
दिल ने कहा इसमें मेरी नहीं, तेरी ही ख्वाहिशों की मंज़ूरी है।
माना आलस सबको आता है,फिर सोचा??
दो पल निकाल कर, कुछ लिखने में मेरा क्या जाता है??
फिर लिखने जब बैठी,
तो सोचा क्यों न आज सब कुछ छोड़, एक छुट्टी मनालू.
रोज़ के वही पुराने काम से दूर, आज चलो खुदको ही सजालू.
चल पड़ी, फिर मैं भी आइने के सामने।
रोज़ के कामों को छोड़ आज बस अपना हाथ थाम ने।
मुँह धोकर भी जब करार न आया।
इस कवियत्री ने हार कर फिर अपना कलम ही उठाया।
बैठ गई हार कर, लगी फिर इस मन की सुनने
बैठते ही लगा ये मन भी,वही रोज़ की तरह रचनाओं के सपने बुनने।
बोला रोज़ की एक रचना में तेरा क्या जाता है??
अपने में ही रह कर, इस दुनियाँ में किसी को मज़ा नहीं आता है।
फिर सोचा, इस मन की हलचल,अब रोज़ मैं सबको बताऊँगी।
खुदसे लड़ने का सलीका, अब रोज़ में लोगो को सिखलाऊँगी।
ऐसे करते-करते एक दिन मैं भी इतिहास के पन्नो में जगमगाऊँगी।
इन रचनाओं के सहारे एक दिन मैं भी,
अपने लक्ष्य के शिखर पर पहुँच जाऊँगी।
उस शिखर पर पहुँच, फिर लोगो को बतलाऊँगी।
अपने शोक को पाले रखना।
ज़िन्दगी का असली स्वाद, फिर तुम इज़्ज़त से चखना।

धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here